Friday, January 5, 2018

बुध-शुक्र-शनि


बुध शुक्र शनि  जब मुश्तर्का, मालिक होवे  धन दौलत का
ग्रह   तीनो  नेक  हों  टेवे, उम्र  ग्रहस्त   औलाद  देवे।
अगर  रोशनी छत  से आये, चोरी हो  धन  दौलत जाये।
गऊ  ग्रास जो  देता  जावे, सुख  दुनियावी  तीनो पावे।
पर उल्ट कभी जब होता हो, पराया दुख दलिद्र ढोता हो।

बुध शुक्र और शुक्र शनि आपस में दोस्त हैं। बुध शुक्र शनि मुश्तर्का हो तो कुण्डली वाला गृहस्त, औलाद और उम्र तीनो ही दुनियावी सुखों का मालिक होगा। गऊ ग्रास यानि गाय कौवा और कुत्ता, तीनों को अपनी खुराक से रोटी का टुकड़ा देते रहना मुबारक होगा। मकान में स्काई लाईट (ऊपर आसमान की तरफ से रोशनी के लिए मौघा, रोशनदान) धन दौलत की चोरी व तबाही का सबूत होगा। काली गाय और काले कुत्ते को रोटी देते जाना मददगार होगा। अगर काली गाय और काला कुत्ता अपने ही घर का पालतू हो तो उनको बाहर से किसी और शख़्स की तरफ से रोटी न मिलने देवे वर्ना फायदे की बजाय नुक्सान होगा। यानि बाहर वालों के दुख दलिद्र काली गाय और काले कुत्ते की मार्फ़त खुद अपने ही घर में जमा होते रहेंगे। बुध शुक्र शनि मुश्तर्का की कुछ मिसालें दिलचस्पी का सबब होंगी। समझदार के लिए इशारा ही काफी।
       



कुण्डली नम्बर 1 वाले का घर परिवार है और छत से रोशनी भी आती है जो बन्द न हो सकी। फज़ूल खर्च और नुक्सान होता रहता है। रोशनी छत से आती रहे, दौलत घर से जाती रहे। 
कुण्डली नम्बर 2 वाले का भी मिलता जुलता हाल।  लिहाज़ा छत से आने वाली रोशनी पक्के तौर पर बन्द करवा दी गई तो ग्रह चाल भी बदल गई। रोशनी छत से कर दी बन्द, धन का फिर नुक्सान भी बन्द।

Wednesday, December 6, 2017

अपनी बात - 3

ग्रहों से पहले मुझे लकीरों का शौक हुआ था। कालेज में पहला साल ही था जब कीरो की किताब ’’वैन वर यू बौर्न’’  मेरे हाथ लगी। किताब अच्छी लगी इसलिए कई बार पढ़ी। फिर मैने रफ्ता-रफ्ता कीरो की बाकी किताबें भी हासिल की और उनको बार बार पढ़ा। लिहाज़ा मैं इस नतीजे पर पहंुचा कि कीरो (1866-1936) अपने दौर का बहुत बड़ा पामिस्ट था। इस दौरान दुनिया का कोई भी पामिस्ट उसके मुकाबिल खड़ा न हो सका। उसने अपने दौर की कई मशहूर हस्तियों के हाथों के छापे अपनी किताबों में दिये हैं। इसके अलावा उसने अपने हाथ का छापा भी दिया है। मेरे ख्याल में यह बहुत बड़ी बात है। कीरो को ’’फादर आफ पामिस्ट्री ’’ कहना गलत न होगा।
मैंने कीरो को ही अपना रहबर मान लिया और उसकी किताबों से पामिस्ट्री सीखने लगा। कुछ साल बाद मैंने हाथों के छापे भी लेने शुरू कर दिये जो सीखने और समझने में बहुत काम आये। बीस - बाईस साला उम्र में मेरे पास सैंकड़ो छापे जमा हो चुके थे। मेरी पशीनगोई  बाद में अक्सर सही निकलती थी। काम करने का तरीका कीरो वाला ही था। जिसे देखकर लोग दंग रह जाते थे। क्योंकि उस दौर में मैंने किसी भी पामिस्ट को हाथों का छापा लेते नही देखा। मेहनत और लगन का नतीजा निकलने लगा । दूसरे शहरों से छापे डाक के ज़रिए आने लगे। जिनका जवाब मैं ख़त के ज़रिए दिया करता था। फिर दूसरे मुल्कों से भी छापे आने लगे।
एक दिन एक लड़का मुझे हाथ दिखाने आया। मैंने उसके हाथ का छापा ले लिया और उसको कुछ दिन के बाद आने के लिए कहा तांकि मैं छापे का तसल्ली से मुआयना कर सकूं। उसके हाथ में एक अजब सीधी साफ सुथरी रेखा, गुरू के बुर्ज से बुध के बुर्ज तक, मेरे लिए एक नई बात थी। मैंने कीरो की किताबें दोबारा देख डाली मगर उस रेखा का केाई ज़िक्र न मिला। फिर मैंने पामिस्ट्री के कुछ और लेखकों की किताबें भी देखीं मगर उस रेखा की किसी ने भी बात न की थी।  वह अजब रेखा मेरे लिए सवालिया निशान बन के रह गई। मुझे अपने आप में कमी महसूस होने लगी।
उस रेखा ने मुझे परेशान कर दिया। यह कैसी रेखा थी जो पहले किसी ने नही देखी ? कीरो ने भी नही देखी, यह कैसे हो सकता था ? मैने कीरो की किताबें फिर से देखनी शुरू कर दीं। सुबह से शाम बस एक ही काम। एक दिन पढ़ते-पढ़ते रात को मेरी आंख कब लग गई, मुझे पता ही न चला। बादलों की गड़गड़ाहट से अचानक मेरी आंख खुली। आसमानी बिजली की चमक से कमरे में कुछ उजाला हुआ। मैंने देखा कुर्सी पर एक गोरा आदमी बैठा मुस्करा रहा था। चेहरा कुछ जाना पहचाना सा लगा। फिर बिजली की चमक गायब हो गई और कमरे में अंधेरा छा गया। यह क्या ? मैंने झट से उठकर कमरे की बिजली जलाई मगर कमरे में  कोई न था। कुर्सी खाली पड़ी थी। मेरे सिरहाने कीरो की किताब खुली पड़ी थी। मेरी नज़र उस पर पड़ी। उस रेखा के बारे तफ़सील से लिखा हुआ मिल गया। मैं हैरान रह गया। समझ नही आया कि यह कोई करिश्मा था या महज़ इत्तफ़ाक। ख़ैर मेरा मसला हल हो गया और दिल को सकून मिल गया।

Friday, November 17, 2017

सूरज-शुक्र-बुध

सूरज से राज दरबार तो शुक्र से घर परिवार। सूरज-बुध और शुक्र-बुध तो दोस्त हैं मगर सूरज-शुक्र दुश्मन हैं। तीनों कुण्डली में मुश्तर्का अमूमन मन्दा फल ही देंगे। अब बुध का खाली चक्कर सूरज की मदद लेकर शुक्र को बरबाद करेगा। गृहस्थी हालत का फैसला केतु की हालत पर होगा। अगर केतु उम्दा हो और बुध को मदद देवे तो कोई मन्दी हालत न होगी। लेकिन अगर केतु मन्दा हो तो औलाद न होगी या देर से होगी। औरत के टेवे में तीनों ग्रह मुश्तर्का किसी भी खाने में होने के वक्त लड़का पैदा होने और मर्द के टेवे में लड़की पैदा होने पर औरत किसी न किसी तरह बरबाद ही होगी। औरत का कोई रिश्ते का भाई औलाद पैदा करने या कराने का बहाना होवे। चाल चलन की बदनामी की तोहमत सच्ची या झूठी ज़रूर होगी।
तीनो ग्रह खाना नम्बर 8 में होने के वक्त अगर शादी बुध की उम्र में हो तो तीन साल के अन्दर-अन्दर औरत की मौत दिन के वक्त बरसरे बाज़ार हादसा में होगी। तीनों खाना नम्बर 3 और सनीश्चर खाना नम्बर 12 के वक्त मकान की तह ज़मीन में बादाम दबा देना, औलाद की पैदायश में बरकत देगा। तीनो खाना नम्बर 9 के वक्त फक़ीर को रोटी देना मददगार होगी। तीनों खाना नम्बर 10 के वक्त साली का रिश्ता अपने ही परिवार मेें होना गैर मुबारक होगा।
आमतौर पर हाथ में खालिस चांदी का छल्ला निहायत मददगार होगा। मन्दी हालत की निशानी घर में निवार के गोल किये हुए बण्डल मुद्दत से बन्द पड़ी होगी, जिसकी मौजूदगी तीनों ग्रहों का मन्दा फल होने का आम सबूत होगा। इसको इस्तेमाल कर लेना या हटा देना ही बेहतर होगा। बवक्त शादी लड़की का दान करने के ठीक बाद तांबे की गागर सालम मूंग से भरकर, जिस तरह लड़की का दान दिया गया, उसी तरह तांबे की गागर का संकल्प कर दिया जाये और बाद में उसे दिन के वक्त किसी नदी या दरिया में बहा दिया जावे। ऐसी ग्रह चाल के वक्त चाहे किसी भी घर में हो, यह उपाय मददगार होगा। सूरज-शुक्र-बुध मुश्तर्का को समझने के लिए चन्द मिसालें मददगार होंगी।



पहली कुण्डली मंे तीनो ग्रह खाना नम्बर 12 में जहां बुध ज़हरीला है। काम काज के लिए विदेश गये तो औरत ने साथ छोड़ दिया। वापिस आकर घर में गोले तलाश किये गये मगर न मिले। दो साल बाद अचानक गोले मिल गये और हटा दिये गये।  अब दूसरी शादी की तैयारी हो रही है। दूसरी कुण्डली में तीनों ग्रह खाना नम्बर 10 में है। शादी हो गई मगर नर औलाद पैदा न हुई और न ही कोई उम्मीद है। बेटियां दो हो गईं। काम काज भी ठीक नही। 




तीसरी कुण्डली में तीनों ग्रह खाना नम्बर 5 में है। शादी हो गई और औलाद का कोई अता पता नही है। बस उम्मीद पर वक्त कट रहा है। चैथी कुण्डली एक अमीर कारोबारी आदमी विजय माल्या की है। तीनो ग्रह खाना नम्बर 11 में है। पहली शादी से एक औलाद हुई और फिर तलाक हो गया। दूसरी शादी एक बेवा से कर ली मगर रंगीनिया बढ़ती गई। कामकाज भी चैपट हो गया। अदालत ने उनके खिलाफ वारंट गिरफ्तारी जारी कर दिया। वह भी इंग्लैण्ड भाग गये। अब अदालत ने उनको पी0ओ0 (भगौड़ा) करार दे दिया है।
   




पांचवी कुण्डली फिल्मी अदाकार दिलीप कुमार की है। शादी हुई भी तो बुढापे में, जिससे एक मुर्दा औलाद पैदा हुई। कुछ साल बाद दूसरी शादी की मगर जल्द ही तलाक हो गया। अब औलाद की क्या उम्मीद होगी। काफी बूढ़े हो गये हैं। छट्टी कुण्डली टाटा ग्रुप के रतन टाटा जी की है। तीनो ग्रह खाना न. 1 में और खाना न. 7 खाली। इनकी शादी नहीं हुई शायद। बच गये।


 





  सातवीं कुण्डली अपने दौर के सुपर स्टार राजेश खन्ना की है जिन्होने 1970 के आस पास फिल्मी दुनिया में तहलका मचा दिया था। तीनों ग्रह खाना न. 7 में। इनकी शादी बाबी यानि डिम्पल से हुई । दो बेटिओं के जन्म के बाद बुध ने सूरज की मदद से शुक्र को खराब कर दिया। लिहाज़ा बाबी छोड़ कर चली गई। फिर कैरियर भी खत्म हो गया। आसमान से ज़मीन पर आ गिरे। ’’ज़माने ने मारे जवां कैसे कैसे, ज़मीं खा गई आसमां कैसे कैसे ’’।
आठवीं कुण्डली एक जाने माने ज्योतिषी की है। शादी हुई, औलाद भी हुई मगर औरत का साथ लम्बा न चला। 15-16 साल हो गये दूसरी औरत की तलाश आज भी जारी है। उपाय कर लेना ही बेहतर होगा। शायद कोई बात बन ही जाये। शादी का लड्डू सब खाते हैं। कई बार लड्डू मीठा नही निकलता। समझदार के लिए इशारा ही काफी और नकलचीन से बस मुआफी।


Wednesday, August 23, 2017

प्रियंका

कुछ लोगों का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने मुल्क को आज़ादी दिलवाई थी। आज़ादी के बाद कांगे्रस ने मुल्क पर लम्बे अर्से तक हकूमत की और एक ही परिवार के तीन वज़ीर-ए-आज़़म दिये। इसी परिवार के राहुल गांधी को कांग्रेस में अगले वज़ीर-ए-आज़़म के तौर पर देखा और सन् 2014 में लोकसभा का चुनाव उसकी कियादत मंे लड़ा। मुल्क पर कांग्रेस की पकड़ कुछ तो पहले ही ढीली पड़ गई थी बाकी कमी लोकसभा के इन्तख़ाब ने पूरी कर दी। पार्टी की गिनती इतनी कम हो गई कि उसको मुख़ालिफ पार्टी का दर्जा भी न मिला तब राहुल गांधी की उम्र 44 साल थी और चुनाव में सीटें भी 44 मिलीं। कांग्रेस का इतना बुरा हाल पहले कभी न हुआ था। कुछ कांग्रेसी लीडरों ने गांधी परिवार की दूसरी सदस्य, राहुल की बहन प्रियंका को सियासत में लाने की बात की तांकि कांग्रेस की गिरती साख को बचाया जा सके। इस साल 5 सूबाई सरकार के इन्तख़ाब में भी कांग्र्रेस को काफी धक्का लगा। पार्टी केवल एक सूबे में ही सरकार बना पाई।
लिहाज़ा प्रियंका की मांग फिर कांग्रेस पार्टी में होने लगी। राहुल गांधी की कुण्डली पर तो पहले बात हो ही चुकी है। अब सवाल यह है कि अगर प्रियंका सियासत में आ जाये तो क्या कांग्रेस को फिर से जीवन मिल पायेगा ? प्रियंका की कुण्डली इस तरह बताई जाती है:-


राहु केतु चन्द्र और शनि का खास योग। बृहस्पत सूरज बुध खाना नम्बर 7, शुक्र खाना नम्बर 9 और खाना नम्बर 1 खाली। किस्मत का हाल झूले की तरह ऊपर नीचे होता रहे। मां वक्त से पहले बेवा या दवाई, डाक्टर, हस्पताल से ताल्लुक बने। सुना है मां बिमार रहती है। अगर यह कुण्डली सही है तो प्रियंका को अपने घर परिवार के बारे सोचना चाहिए। मुल्क का ख्याल रखने के लिए और कई लोग मौजूद हैं। समझदार के लिए इशारा ही काफी और नकलचीन से बस मुआफ़ी।

Wednesday, July 5, 2017

ग्रह चाल

अक्सर ज़िन्दगी में अजीब वाक्यात हो जाते हैं। कई बार काम करने का मौका ही नही मिलता। अगर मौका मिल जाये तो कामयाबी नही मिलती। कई बार तो कामयाबी हाथ से फिसल जाती है यानि मिलकर भी नही मिलती। ऐसे लोगों को कीरो ने चिल्ड्रन आफ फेट भी कहा है। ऐसी कुछ मिसालें दिलचस्पी का सबब होंगी।
आज से लगभग 13 साल पहले जब लोक सभा के चुनाव हुये तो लगता था कि कांग्रेस पार्टी की नेता सोनिया गांधी जी मुल्क की वज़ीर-ए-आज़म बनेंगी। सरकार बनाने के लिए जब वह राष्ट्रपति से मिली तो उनके सचिव ने सोनिया गांधी जी के नाम का पत्र राष्ट्रपति के आगे रखा। लेकिन राष्ट्रपति ने उसको मनमोहन सिंह जी के नाम का पत्र लाने के लिए कहा। इस तरह सोनिया गांधी जी के बजाये मनमोहन सिंह जी वज़ीर-ए-आज़म बन गये जिनके बारे किसी ने सोचा भी न था। उनको दूसरी बारी भी मिली। फिर जब तीन साल पहले लोकसभा के चुनाव हुये तो कांग्रेस ने राहुल गांधी को आगे किया मगर नतीजा मन्दा ही निकला। कांग्र्रेस पार्टी की गिनती लोकसभा में बहुत कम हो गई। इस साल जब उत्तरप्रदेश में चुनाव हुये तो भी राहुल गांधी कुछ न कर सके। कांग्रेस पार्टी बस सिमट कर रह गई।
तामिलनाडू में तो अजब खेल हुआ। अन्ना डी.एम.के. पार्टी की नेता ससीकला सूबे की वज़ीर-ए-आला बनती बनती जेल में पहंुच गई। और भी कई मिसाले हैं जहां सोचा था क्या, क्या हो गया। जैसे एल.के.अडवानी, सुषमा स्वराज, किरण बेदी वगैरह-वगैरह।
अब सवाल यह है कि ऐसा क्यों होता है ? इनकी कुण्डलियों पर नज़र डालें तो कुछ पता चलता है। सोनिया गांधी जी की कुण्डली में ग्रहण है। राहुल गांधी की कुण्डली में बुध मन्दा ज़हर से भरा हुआ है। ससीकला जी की कुण्डली में भी बुध बहुत मन्दा है। एल.के.अडवानी जी को वज़ीर-ए-आज़म का सपना भी मन्दे बुध ने पूरा न होने दिया। सुषमा स्वराज जी को भी ग्रहण की वजह से धक्का लगा। किरण बेदी जी के साथ भी बुध ने ड्रामा किया। ग्रहो पर नज़रसानी करते हुये कहा जा सकता है कि मन्दा बुध या ग्रहण अक्सर ज़िन्दगी की बाज़ी ही पलट देता है।  मौका निकल जाता है, कामयाबी फिसल जाती है। 

Thursday, May 11, 2017

आरती-2

चार साल बाद दिसम्बर 2016 को जालन्धर ज्योतिष सम्मेलन में आरती से फिर मुलाकात हो गई। अब उसकी उम्र 38 साल हो गई थी। चहेरे पर पहले वाली चमक न थी। पहले वो तरक्की के बारे पूछा करती थी । अब उसने शादी के बारे में पूछा। यानि जब शादी की उम्र थी तो कैरियर का सोचती रही। अब उम्र निकल गई तो शादी के बारे सोचने लगी। नतीजा न कैरियर में कुछ खास हुआ  और न ही शादी हुई। हालांकि वह खुद भी ज्योतिष में दिलचस्पी रखती है और ज्योतिष सम्मेलनों में उठक बैठक भी करती है। मगर अपनी ग्रहचाल को समझ न पाई। ज़िन्दगी बस गुज़र हो रही है। आरती की कुण्डली शायद आपको याद हो।

     जन्मः 7-7-1978





सूरज की उम्र शुरू हुई तो उम्मीदों ने जन्म लिया। चन्द्र की उम्र आई तो उम्मीदें परवान चढ़ने लगी। शुक्र ने और हवा दे दी। बुध की उम्र में उम्मीदें बिखरने लगी। शनि की उम्र आई तो सब मन्सूबांे पर पानी फिर गया। एक खूबसूरत और पढ़ी लिखी लड़की तन्हा हो कर रह गई। ’’ मैंने चांद और सितारों की तमन्ना की थी.......। ’’ किस्मत की कहानी ग्रहों की ज़ुबानी। तफसील के लिए पहला मज़मून देखें। समझदार के लिए इशारा ही काफी और नकलचीन से बस मुआफ़ी। 

Tuesday, April 11, 2017

ग्रह खेल-3

ज़िन्दगी इतफ़ाक है ....... ज़िन्दगी ग्रह खेल है, कल भी ग्रह खेल थी, आज भी ग्रह खेल है। यानि ग्रह खेल के मुताबिक ही ज़िन्दगी चलती है। तामिलनाडू की साबका वज़ीर-ए-आला अम्मा (जय ललिता) के गुज़र जाने के बाद उनकी एक करीबी मोहतरमा शशिकला नटराजन ने अन्ना डी.एम.के. पार्टी पर कब्ज़ा कर लिया। उसकी नज़र सूबे के वज़ीर-ए-आला की कुर्सी पर थी। उसने फरवरी में काम चलाऊ वज़ीर-ए-आला को इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया। पार्टी ने भी शशिकला को वज़ीर-ए-आला का उम्मीदवार चुन लिया था। मगर इससे पहले बात आगे बढ़े, सुर्पीमकोर्ट में उसके खिलाफ चल रहे आमदनी से ज्यादा जायदाद होने के केस का फैसला आ गया। कोर्ट ने शशिकला को कसूरवार करार देते हुये चार साल की कैद और 10 करोड़ रूपए जुर्माने की सज़ा सुना दी। लिहाज़ा वज़ीर-ए-आला की कुर्सी पर पहुंचने की बजाय वह जेल में पहंुच गई। सोचा था क्या, क्या हो गया। आखि़र ऐसा क्यों हुआ ? यह जानने के लिए शशिकला की कुण्डली का जायज़ा लेना होगा। मेरी नज़र में जो उसकी कुण्डली गुज़री, वह इस तरह है।





कुण्डली में पापी टोला मन्दा है। ज़िन्दगी का हाल झूले की तरह ऊपर नीचे होता रहे। खाना नम्बर 8 में तीनों ग्रहों का असर मन्दा। राज दरबार का योग तो है मगर नेक नही। तालीम अधूरी रही मगर शादी सूबे एक सरकारी अफसर से हो गई। फिल्मों मे दिलचस्पी होने की वजह से अम्मा के करीब आने का मौका मिल गया। करीबी इतनी बढ़ी कि वह अम्मा के घर में परिवार के मैम्बर की तरह रहने लगी। फिर एक दिन अम्मा ने उसे घर से बाहर कर दिया मगर उसने फौरन मुआफी मांग ली और सिलसिला चलता रहा। इस साल के वर्षफल पर नज़रसानी करें तो राज दरबार का योग मन्दा। खाना नम्बर 5 और 10 के ग्रहों का टकराव और नतीजा धोखा हो गया।  लिहाज़ा सरकारी रोटी खाने के लिए वह जेल में पहंुच गई। समझदार के लिए इशारा ही काफी और नकलचीन से बस मुआफी।