Friday, May 3, 2013

जनरल मुशरर्फ


पाकिस्तानी फौज के साबिका जनरल परवेज़ मुशरर्फ आजकल अख़बारों की सुर्खियों में हैं। वह चार साल के बाद अपने वतन वापिस लौटे। पाकिस्तान में होने वाले चुनाव के लिए उन्होने चार जगह से कागज़ दाखिल किये मगर रद्द हो गये। बल्कि कुछ कानूनी केस उनके खिलाफ खड़े हो गये। अदालत ने उनकी गिरफ्तारी का हुक्म जारी कर दिया। लिहाज़ा वह अपने ही फार्म हाऊस में कैद हो गये। सोचा था क्या, क्या हो गया ।

जनरल साहिब ने कूप करके सत्ता हासिल की थी। उन्होने आठ साल तक पाकिस्तान पर हकूमत की। उनका हुक्म चलता था और सलाम बजते थे। मगर अब कुछ भी नहीं। बस कैदी बनकर रह गये। आखिर ऐसा क्यों हुआ । यह जानने के लिए उनकी जन्म कुण्डली का जायज़ा लेना होगा। उनकी कुण्डली इस तरह बताई जाती है। समझदार के लिए इशारा ही काफी।




जन्म कुण्डली में तकरीबन सभी ग्रह अच्छी हालत में। मज़बूत राजयोग। लिहाज़ा फौज में आला ओहदे पर पहंुचे। फिर कूप करके तानाशाह बन गये। बाद में पाकिस्तान के सदर भी बने। बृहस्पत सूर्य खाना नं0 1, एक खास योग। राहु साथ बैठा है मगर दबा हुआ जो मौका मिलने पर छुपी शरारत कर सकता है। शुक्र बुध खाना नं0 2 मसनुई सूरज। मंगल खाना नं0 10 और शनि खाना नं0 12, लम्बी उम्र, जंगी ताकत और दलेरी का साथ। जब तक जिस्म पर फौजी वर्दी रही, सब ठीक रहा। सदर बनने के बाद वर्दी उतार दी। फिर हालात खराब होने लगे। शहनशाह के दरबार से आग का धूंआ बढ़ता ही गया। राहु का जंग सूरज के राज दरबार को खाने लगा और बृहस्पत का सोना भी पीतल बन गया। आखिर सत्ता छोड़नी पड़ी। फिर मुल्क से भी बाहर  हो गये।

इस साल वर्षफल में ज्यादातर ग्रह मन्दे। शनि खाना नं0 8 वारंट जारी करने वाला। बृहस्पत सूर्य राहु खाना नं0 10, राज दरबार में हर बात उलझी हुई नज़र आवे और किस्मत की चमक भी फीकी पड़ जावे। बुध खाना नं0 12 रात की नींद उजाड़ने वाला और सब उल्ट हो जावे। किस्सा कोताह ग्रहों ने मुजरिम बनाकर रख दिया। वह अपने ही मुल्क में कैद हो गये, जहां कभी राज किया करते थे। मारा ग्रहों ने जनरल मुशरर्फ तुझे, वर्ना वह रूतबा वह हकूमत किधर गई।

2 comments:

powerastro guru said...

It’s actually a nice and helpful piece of information. I am satisfied that you simply shared this useful information with us. Please stay us informed like this. Thanks for sharing.
love problems solution

Chetan Sud said...

tere sajde mein sar jhukaane ko jee karta hai, waah re lal kitab ke maula, ek pandit ji ke baad tu hi nazar aaya hai mujhe

Post a Comment